Thursday, July 25, 2024

CG School Reopening: इस दिन से खुलेंगे छत्तीसगढ़ के स्कूल, पढाई में होने वाला है बड़ा बदलाव

रायपुर: देश के तमाम सरकारी स्कूलों में अब पहले से बेहतर शिक्षा देने के बात चल रही है। साथ ही बच्चों की प्रगति को लेकर हमेशा स्कूलों में पालक-शिक्षकों (पीटीएम) की बैठक आयोजित की जा रही है। आगे आयोजित होने की बात को लेकर गुरुवार को स्कूल शिक्षा विभाग ने आदेश जारी कर दिया है। इस फैसले को राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत लिया गया है।

9 अगस्त को पहली बैठक

बता दें की प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों में 9 अगस्त को पहली पालक-शिक्षक मेगा बैठक आयोजित की जा रही है। इसके बाद तिमाही एग्जाम होंगे, एग्जाम के दस दिन बाद फिर स्कूल अस्तर पर दूसरी बैठक आयोजित की जाएगी। फिर तीसरी पीटीएम को छिमाही एग्जाम के 10 दिन के अंदर आयोजित करने का फैसला लिया गया है। पालक-शिक्षक मीटिंग में स्कूल शिक्षा विभाग ने 12 मुद्दों को नियमित रूप से शामिल करने को कहा गया है।

इन मुद्दों पर हो नियमित रूप से चर्चा

  1. मेरा कोना: घर में बच्चों के पढ़ाई के लिए उचित वातावरण के लिए एक स्थान तय करना। इसमें घर में ऐसे जगह का चयन किया जा सकता है, जहां उचित प्रकाश हो और बच्चे में पढ़ाई के लिए रुचि विकसित को सके।

2-छात्र दिनचर्या: पालक को अपने बच्चों की दिनचर्या सुनिश्चित करने के लिए प्रेरित किया जाना होगा।

3-बच्चे ने आज क्या सीखा: बच्चे जब विद्यालय (Chhattisgarh School Reopening Date 2024) से घर पहुुंचें, तक अभिभावक उनसे जरूर पूछे, कि उन्होंने विद्यालय में आज क्या पढ़ा और सीखा।

4- बच्चा बोलेगा बेझिझक: प्रत्येक प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालय में प्रतिदिन छात्र-छात्राओं की प्रार्थना के समय आगे आकर उन्हेें बोलने का अवसर प्रदान करना। इससे बच्चों में सार्वजनिक रूप से अपने विचारों को व्यक्त करने का अवसर प्राप्त होगा।

5- बच्चों के अकादमिक प्रगति व परीक्षा पर चर्चा: समय-समय पर छात्रों के अकादमिक प्रगति व परीक्षा के संबंध में अभिभावकों से चर्चा करें।

6- पुस्तक की उपलब्धता सुनिश्चित करना

7- बस्ता रहित शनिवार

8-विद्यार्थियों के आयु/कक्षा अनुरूप स्वास्थ्य परीक्षण व पोषण की जानकारी

9- जाति/आय/निवास प्रमाण पत्र के संबंध में

10-न्योता भोज

11- विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं/छात्रवृत्ति एवं विभागीय योजनाओं की जानकारी पर चर्चा

12- विभिन्न डिजिटल प्लेटफार्म के माध्यम से शिक्षा के लिए पालकों व छात्रों को अवगत करना।8-विद्यार्थियों के आयु/कक्षा अनुरूप स्वास्थ्य परीक्षण व पोषण की जानकारी

Latest news
Related news