Monday, June 17, 2024

Lok Sabha Election 2024: छत्‍तीसगढ़ कांग्रेस को बड़ा झटका, इन दो दिग्‍गज नेताओं ने पार्टी से दिया इस्तीफा

रायपुर। कल से देश भर में लोकसभा चुनाव 2024 (Lok Sabha Election 2024) की शुरूआत होने जा रही है। चुनाव से पहले ही प्रदेश में चुनावी सरगर्मी बढ़ी हुई है। इसी बीच कांग्रेस को एक ही दिन में दो बड़े झटके लगे हैं। दरअसल, लोकसभा चुनाव से ठीक पहले पूर्व विधायक शिशुपाल सोरी ने कांग्रेस पार्टी का साथ छोड़ दिया है। ऐसा माना जा रहा है कि शिशुपाल सोरी अब बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। खबरों के मुताबिक, शिशुपाल सोरी अपने समर्थकों के आज शाम रायपुर में भाजपा में शामिल हो सकते हैं।

वहीं दूसरी तरफ बिलासपुर में तीन दिन पहले कांग्रेस से नामांकन फार्म खरीदने वाले प्रदेश कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य विष्णु यादव ने भी कांग्रेस से इस्‍तीफा दिया था। जिसके बाद उन्होंने सीएम विष्‍णुदेव साय की मौजूदगी में भाजपा में प्रवेश किया। इसके अलावा कांग्रेस विधायक चंद्रदेव राय के भी बीजेपी में शामिल होने की खबरें हैं।

इस कारण दिया इस्तीफा

दरअसल, शिशुपाल शोरी ने मीडिया से बातचीत में बताया कि वे प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की नीतियों से काफी प्रभावित हैं। उन्‍होंने कहा, पीएम मोदी ने छत्‍तीसगढ़ को आदिवासी मुख्‍यमंत्री देकर आदिवासियों का मान बढ़ाया है। शिशुपाल शोरी ने कहा, कांग्रेस में 10 साल तक निष्ठा से कार्य करने के बाद भी पार्टी में उनकी अनदेखी होती रही। लेकिन अब वो मन बना चुके हैं कि आम जनता के हित में काम करने वाली बीजेपी के साथ जाकर लोगों की सेवा करेंगे।

बता दें कि शिशुपाल शोरी के साथ आज बालोद क्षेत्र से भी कांग्रेस के कई लोग बीजेपी में शामिल होने जा रहे हैं। जानकारी के अनुसार, कांग्रेस नेता शिशुपाल सोरी मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय के समक्ष भाजपा में प्रवेश करेंगे। विधायक रहने के बावजूद छत्‍तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में शिशुपाल सोरी का टिकट काट दिया गया था।

इस वजह से पार्टी से नाराज थे विष्‍णु यादव

गौरतलब है कि बिलासपुर लोकसभा सीट से देवेन्‍द्र यादव को टिकट (Lok Sabha Election 2024) दिए जाने के बाद से विष्णु यादव नाराज थे। विष्णु यादव ने नामांकन फार्म खरीदने के बाद कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व पर गंभीर आरोप भी लगाए थे। उन्होंने कहा था कि उनके साथ बार-बार अन्याय हो रहा है। एक बार उनका नाम घोषित हो जाने के बाद टिकट में बदलाव कर दिया जाता है। वे पूर्व में एआइसीसी के डेलिगेट रह चुके हैं।

Latest news
Related news