Saturday, July 20, 2024

chhattisgarh Election 2023: चुनाव आयोग ने CM हिमंत बिस्वा को जारी किया कारण बताओ नोटिस

रायपुर। बिलासपुर में बीजेपी के पक्ष में प्रचार करने के लिए असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा पहुंंचे थे। बताया जा रहा है कि इस दौरान हिमंत बिस्वा ने गुरुवार को प्रदेश सरकार पर बड़ा हमला किया था. इस दौरान शहर के वाजपेई मैदान में सभा को संबोधित करने से पहले हिमंत बिस्वा ने एक प्रेस कांफ्रेंस के जरिए राज्य सरकार पर तीखा प्रहार किया।

हिमंत बिस्वा का कांग्रेस पर तीखा प्रहार

असम के सीएम हिमंत बिस्वा ने कहा कि इस देश को विश्व गुरु बनाने के लिए शक्तिशाली ईडी और सीबीआई की जरूरत है। ये नहीं होंगे तो गौठान घोटाला, कोयला घोटाला, शराब घोटाले का पैसा बाहर कैसे आएगा। वहीं छत्तीसगढ़ के कुछ अधिकारियों को लेकर हिमंत बिस्वा ने कहा कि कुछ अधिकारी कांग्रेसी बनकर काम कर रहे हैं। ऐसे अधिकारियों के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत की जा सकती है। आचार संहिता लगने के बाद किसी भी पार्टी के लिए एकतरफा काम नहीं करना चाहिए। भारत सरकार इनके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है।

निकाली गई रैली

मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने आगे कहा कि पूरे भारत में मदरसा बंद होना चाहिए। केवल चुनाव के समय नहीं, बल्कि हर समय मदरसा बंद करने के लिए बात होनी चाहिए। ईडी की कार्यवाही पर उन्होंने कहा कि देश में एक तरफ भाजपा और एक तरफ कांग्रेस कार्यकर्ताओं की प्रॉपर्टी गिने तो इसमें कांग्रेसी भ्रष्टाचार में आगे मिलेंगे। इसके अलावा सीएम हिमंत बिस्वा ने भाजपा प्रत्याशियों के साथ-साथ आमसभा को भी संबोधित किया। वहीं, भाजपा के सभी प्रत्याशियों ने शहर में नामांकन रैली निकालकर जनता से समर्थन मांगा। असम के सीएम ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने सनातन धर्म को कमजोर करने के लिए राज्य में धर्म परिवर्तन का बाजार खोल दिया है।

कांग्रेस नेता कभी नहीं जाएंगे राम मंदिर

यही नहीं महासमुंद में भाजपा ने जिले के चारों विधानसभा के प्रत्याशियों की नामांकन रैली निकालकर शक्ति प्रदर्शन किया। इस रैली से पहले भाजपाइयों ने जिला मुख्यालय के हाई स्कूल मैदान में सभा का आयोजन किया और जमकर हुंकार भरी। इस दौरान हिमंत बिस्वा ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर भी कटाक्ष करते हुए कहा कि कांग्रेस नेता कभी भी अयोध्या में राम मंदिर नहीं जाएंगे, क्योंकि इस तरह के कदम से बाबर के लोग नाराज हो जाएंगे। सरमा ने कहा कि हमें एक बार सोचना होगा कि आखिर भूपेश बघेल सरकार ने राज्य को किस स्थिति में धकेल दिया है ? राज्य में धर्म परिवर्तन हो रहा है। राज्य के हर हिस्से में आदिवासियों के धर्मांतरण कराने की साजिश चल रही है। सनातन पर हमला किया जा रहा है।

कांग्रेस ने पांच साल में क्या किया ?

इसके अलावा हिमंत बिस्वा ने कहा कि हमें सोचना चाहिए कि कांग्रेस ने पांच साल में क्या दिया ? क्या सीएम बघेल ने पांच साल में कोई विश्वविद्यालय खोला ? असम के हर जिले में मेडिकल कॉलेज की स्थापना की गई है लेकिन यहां राज्य में कोई बुनियादी परिवर्तन नहीं हुआ है। असम के सीएम ने कहा कि बघेल हर बार नाटक करते हैं और उन्होंने सनातन धर्म को कमजोर करने के लिए धर्म परिवर्तन का एक बड़ा बाजार खोला है।

हिमंत बिस्वा को जारी हुआ कारण बताओ नोटिस

बता दें की केंद्रीय निर्वाचन आयोग ने भाजपा नेता और असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। इसके लिए हिमंत बिस्वा को 30 अक्टूबर शाम पांच बजे तक जवाब देने के लिए कहा गया है। बता दें कि कांग्रेस की शिकायत पर आयोग ने यह कार्रवाई की है। कांग्रेस के मुताबिक भाषण के दौरान मंत्री और कांग्रेस को निशाना बनाते हुए सरमा ने भड़काऊ भाषण दिया है। आयोग को सौंपे गए ज्ञापन में कांग्रेस ने कहा है कि भाजपा नेताओं द्वारा छत्तीसगढ़ में चुनावी सभा के दौरान समाज के कुछ वर्गों को एक-दूसरे के खिलाफ भड़काने की नीयत से बयान दिए जा रहे हैं, जो कि चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है।

Latest news
Related news