Tuesday, June 18, 2024

20 साल पहले मर चुके शख्स की आत्मा ने मचाया कोहराम

छत्तीसगढ़: बालोद जिले के करकाभाट गांव में 20 साल पहले एक शख्स की हत्या हो गई थी। और यह हत्या किसी और ने नहीं बल्कि उसी के दोस्त ने करदी थी। लेकिन इस बात का पता 20 साल बाद चल रहा है। 20 साल बाद अब पुलिस-प्रशासन ने खुदाई करके निकाले शव के अवशेष।

कैसे हुआ खुलासा

यह खुलासा तब हुआ, जब मृतक व्यक्ति का दोस्त पुलिस के पास पहुंचा और कहने लगा कि मैंने 20 साल पहले यानी 2003 में अपने दोस्त की हत्या कर दी थी। अब आरोपी का कहना है कि कई सालों से उसके दोस्त की आत्मा उसे परेशान कर रही है।

क्यों की थी हत्या

जानकारी के मुताबिक, छवेश्वर गोयल और गांव के ही रहने वाले आरोपी टीकम कोलियार (38 वर्ष) की आपस में दोस्ती थी। उस वक्त दोनों दोस्त करीब 18 साल थे। आरोपी टीकम का एक लड़की के साथ प्रेम प्रसंग चल रहा था, जो आज उसकी पत्नी है। उसकी प्रेमिका अश्विनी कोलियार को उसका दोस्त छवेश्वर गलत नजर से देखता था। और उससे छेड़छाड़ भी करता था। यह बात युवती ने अपने प्रेमी को बताई। तो उसने दोस्त को समझाया। लेकिन उसके समझ में कुछ बात नहीं आई और फिर एक दिन छवेश्वर ने अश्विनी के साथ रेप करने की कोशिश की। जब यह बात टीकम को पता लगी तो उसने छवेश्वर को पीट-पीटकर मार डाला और लाश को गांव से 300 मीटर दूर करकाभाट जलाशय के पास मट्टी में दफन कर दिया।

20 साल से मिस्ट्री बन चुका था

छवेश्वर गोयल के लापता होने पर उसके परिवार वाले परेशान थे। उनके काफी खोजने के बाद भी जब वह नहीं मिला तो, उसके परिवार वालों नें उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी, लेकिन पुलिस भी उसे नहीं ढूंढ पाई थी। आरोपी ने बताया कि उसके इस हत्या के बारे में अपनी प्रेमिका को भी नहीं बताया और उससे शादी कर ली।

कुछ साल से आत्मा ने सताया

इस बीच टीकम और उसकी पत्नी के 2 बच्चे भी हुए। हत्या करने के कुछ सालों के बाद ही आरोपी परेशान रहने लगा। उसे अपने दोस्त की आत्मा दिखने लगी और खुतको सताने की बात करने लगा। 2021 में उसने यह हत्या की बात अपनी पत्नी और गांव वालों को बताई तो उसका किसी ने यकीन नहीं किया और उसे सबने मांसिक रूप से कमजोर मान लिया।

खुदाई में मिले अवशेष

इस मामले में सहायक उपनिरीक्षक कांता राम ने बताया, कि SDM के आदेश पर आरोपी की बताई जगह पर खुदाई की गई है। जहां पर 7 हड्डियां और कुछ कपड़े मिले हैं। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि यह फॉरेंसिक जांच के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि ये हड्डियां इंसान की हैं या फिर जानवर की। वहीं थाना प्रभारी ने बताया कि टीकम की निशानदेही पर फिर से खुदाई की गई है। अगर जांच में हत्या पाई जाती है तो आरोपी के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया जाएगा। एएसपी हरीश राठौर कहना है कि फॉरेंसिक रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Latest news
Related news